Ramayan title song Lyrics

Ramayan title song Lyrics

Song Details
Song: Ramayan Title Song
Lyrics/Music: Ravindra Jain

Ramayan song Lyrics in Hindi

मंगल भवन अमंगल हारी
द्रबहु सुदसरथ अचर बिहारी
राम सिया राम सिया राम जय जय राम
मंगल भवन अमंगल हारी
द्रबहु सुदसरथ अचर बिहारी
राम सिया राम सिया राम जय जय राम
हो, होइहै वही जो राम रचि राखा
को करे तरफ़ बढ़ाए साखा
हो, धीरज धरम मित्र अरु नारी
आपद काल परखिये चारी
हो, जेहिके जेहि पर सत्य सनेहू
सो तेहि मिलय न कछु सन्देहू
हो, जाकी रही भावना जैसी
रघु मूरति देखी तिन तैसी
रघुकुल रीत सदा चली आई
प्राण जाए पर वचन न जाई
राम सिया राम सिया राम जय जय राम
हो, हरि अनन्त हरि कथा अनन्ता
कहहि सुनहि बहुविधि सब संता
राम सिया राम सिया राम जय जय राम
ब्याकुल दशरथ के लगे
रच के पच पर नैन
रच बिहीन बन बन फिरे
राम सिया दिन रैन
विधिना ना तेरे लेख किसी की
समझ ना आते हैं
जन जन के प्रिय राम लखन सिया
वन को जाते हैं
जन जन के प्रिय राम लखन सिया
वन को जाते हैं
हो विधिना ना तेरे लेख किसी की
समझ ना आते हैं
एक राजा के रज दुलरे
वन वन फिरते मारे मारे
एक राजा के रज दुलरे
वन वन फिरते मारे मारे
होनी हो कर रहे करम गति
डरे नहीं क़ाबू के टारे
सबके कस्ट मिटाने वाले
कस्ट उठाते हैं
जन जन के प्रिय राम लखन सिया
वन को जाते हैं
हो विधिना ना तेरे लेख किसी की
समझ ना आते हैं
उभय बीच सिया सोहती कैसे
ब्रह्म जीव बीच माया जैसे
फूलों से चरणों में काँटे
विधिना क्यूँ दुःख दिने ऐसे
पग से बहे लहू की धारा
हरी चरणों से गंगा जैसे
संकट सहज भाव से सहते
और मुसकते हैं
जन जन के प्रिय राम लखन सिया
वन को जाते हैं
हो विधिना ना तेरे लेख किसी की
समझ ना आते हैं
हो विधिना ना तेरे लेख किसी की
समझ ना आते हैं
जन जन के प्रिय राम लखन सिय
वन को जाते हैं
जन जन के प्रिय राम लखन सिया
वन को जाते हैं

Ramayan song Lyrics in english

Mangal bhavan amangal haari
Drabahu sudashrath achar bihari
Sitaram charit ati pavan
Madhur saras aur ati mann bhavan
Puni puni kitane ho sune sunae
Phir bhi pyaas bujat na bujae
Ho, Magal bhavan amagal haari
Drabahu sudasarath achar bihaari
Raam siyaa raam siyaa raam jay jay raam
Raam siyaa raam siyaa raam jay jay raam
Ho, hoihai vahi jo raam rachi raakhaa
Ko kare taraf badhvae saakhaa
Raam siyaa raam siyaa raam jay jay raam
Raam siyaa raam siyaa raam jay jay raam
Ho, dhiraj dharam mitra aru naari
Aapad kaal parakhiye chaari
Raam siyaa raam siyaa raam jay jay raam, raam
Raam siyaa raam siyaa raam jay jay raam
Ho, jehike jehi par satya sanehu
So tehi milay na kachhu sandehu
Raam siyaa raam siyaa raam jay jay raam, raam
Raam siyaa raam siyaa raam jay jay raam
Ho, jaaki rahi bhaavanaa jaisi
Raghu murati dekhi tin taisi
Raam siyaa raam siyaa raam jay jay raam, raam
Raam siyaa raam siyaa raam jay jay raam
Raghukul rit sadaa chali aai
Praan jaae par vachan na jaai
Raam siyaa raam siyaa raam jay jay raam, raam
Raam siyaa raam siyaa raam jay jay raam
Ho, hari anant hari kathaa anantaa
Kahahi sunahi bahuvidhi sab sataa
Raam siyaa raam siyaa raam jay jay raam, raam
Raam siyaa raam siyaa raam jay jay raam
Label : Nashik darshan

Leave a Reply

%d bloggers like this: