Rahat indori Shayari – रहत इंदौरी शायरी

Rahat indori Shayari – रहत इंदौरी शायरी

रहत इंदौरी शायरी : 

Label & Credits : Jashn-e-Rekhta
Subscribe : Jashn-e-Rekhta
गजल हर रोज पत्थर के समर्थन में लिखती है
हर दिन कांच से चीजें निकलती हैं
मैंने अपनी सूखी आँखों से खून बहाया,
मैं कह रहा था कि मुझे पानी की जरूरत है।
दरिया को खुद पर बहुत गर्व है
जो मेरी प्यास से उलझ जाते हैं, वे उड़ जाते हैं
नए किरदार आ रहे हैं
लेकिन नाटक पुराना चल रहा है
हर दिन तार दिखाने में बाधा डालते हैं
चाँद पागल है अँधेरे में निकल पड़ता है
मैं तुम्हें किस मौसम का नाम दूंगा
यहां हर मौसम में गुजरना जल्दी था
बीमार को दवा दी जानी चाहिए
मैं गोटी पीना चाहता हूं
बोतलें खोलने के बाद सालों तक पिएं
आज खुलकर पीते हैं
मैंने अपनी खुश आँखों से खून उगल दिया
मैं कह रहा था कि मुझे पानी चाहिए
हम शाखाओं से टूटे हुए पत्ते नहीं हैं
किसी को हवा में रखने को कहना
सूर्य तारे चंद्रमा चमत्कार सात में हैं
जब तक आपका हाथ है
कॉलेज के सभी बच्चे एक पेपर बोट पर चुप हैं
नदी की सतह हर जगह फैली हुई है
किसी से दोस्ती कब करें
दुश्मनों से भी सलाह लेनी चाहिए
वह चाहता था कि मैं कासा खरीद लूं
इन हवाओं को उड़ने न दें, लेकिन कागज के शरीर
दोस्तों ने मेरे ऊपर पत्थर रख दिया
यह जरूरी है कि आंखें भरी रहें
नींद आना या न सोना सपना नहीं है
कई यात्री हमारे सामने से गुजरेंगे
कम से कम सड़क के पत्थरों को हटा दिया गया होता
ये दोनों किनारे दोस्त एक ही नादानी के हैं
मिलनसार जीवन के साथ प्यार की मौत
मैं घर के बाहर की दुनिया को खोजता रहता हूं
घर के अंदर रहते हैं
शहर को क्या देखना चाहिए कि हर दृश्य दफन हो जाए
यह ऐसा है कि पीले फूल काले हो जाते हैं
अजीब इच्छाएं, छाती भी नहीं कर सकतीं
ऐसे जिद्दी पक्षी हैं, जिन्हें मैं उड़ा भी नहीं सकता
अपनी आँखों पर पानी रखें, अपने होठों पर स्पार्क करें
अगर आप जीवित रहना चाहते हैं, तो बहुत सारी ट्रिक्स रखें
दैनिक तारों में हस्तक्षेप होता है,
चाँद पागल है
थूक पर नजर रखें
अगर आप जिंदा रहना चाहते हैं तो बहुत सी ट्रिक्स रखें
अब हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है
शहर में उम्र बीत चुकी है
दरिया को खुद पर बहुत गर्व है
जो मेरी प्यास से उलझ जाते हैं, वे उड़ जाते हैं
बीमार को दवा दी जानी चाहिए
मैं गोटी पीना चाहता हूं
बोतलें खोलने के बाद सालों तक पिएं
आज खुलकर पीते हैं
किसी से दोस्ती कब करें
दुश्मनों से भी सलाह लेनी चाहिए
ये दोनों किनारे दोस्त एक ही नादानी के हैं
मिलनसार जीवन के साथ प्यार की मौत
अब हम घर पर ताला लगाने जा रहे हैं
यह पता चला है कि मेहमान आ रहे हैं
आंखों में पानी रखें
जिंदा रहना चाहते हैं तो बहुत सारी ट्रिक्स रखें
सड़क के पत्थरों से उठाते हुए, फर्श कुछ भी नहीं हैं
जिस तरह लगता है, चलते रहो
जागें भी, जागें भी, अभ्यस्त हों
काश आप किसी कवि के प्यार में पड़ सकते
कभी गौर किया है कि हम इससे कितने दूर हैं
फिर मत कहना कि घबड़ाहट है
सूरज, तारे, चाँद मेरे साथ रहें
जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथों में हैं
हम शाखाओं द्वारा तोड़े गए पत्ते नहीं हैं
किसी को तूफान में रहने के लिए कहें
गुलाब, सपने, दवा, जहर, जाम क्या हैं
मैं आ गया हूं, क्या इंतजाम हैं
फ़कीर, शाह, कलंदर, इमाम क्या हैं
आप नहीं जानते कि आपका गुलाम क्या है
कभी-कभी हम क्लैंप के माध्यम से उड़ते हैं
कभी-कभी धुएं की तरह पहाड़ों से उड़ते हैं
ये केचियां हमें उड़ने से रोकेंगी
कि हम हिम्मत से उड़ते हैं, आत्माओं से नहीं
हर एक शैली बदल गई है
आज से हमने आपका नाम ग़ज़ल रखा
मैंने शाहों के प्रेम की महिमा को तोड़ा
मेरे कमरे में एक ताजमहल भी है
सैनिकों में, युवाओं को धोना
जो लोग भूल नहीं करते, भूल जाते हैं
अगर अनारकली विद्रोह का एक कारण है
सलीम हम आपकी शर्तों को स्वीकार करते हैं
हम नई यात्रा के लिए नई व्यवस्था कहेंगे
हवा को सूँघो, शाम को दीपक बुलाओ
किसी से हाथ मिलाना
अन्यथा इसे मौलवी साहब हरम कहा जाएगा
युवा आंखों की जुगनू चमक रही होगी
अब आपके गाँव में अमरूद पकने लगेंगे
मुझे भूल जाओ लेकिन मेरी उंगलियों के निशान
आपका शरीर अभी भी चमक रहा होगा
इश्क में पोर-पोर थे जो तीखे हो गए
ये कंगन आपके हाथों में ढीले हो गए हैं
बेचारे फूल को शाखा पर अकेला छोड़ दिया जाता है
गाँव की सभी तितलियों के हाथ पीले हो गए
क्या सीमाओं पर तनाव है
बस पता है कि चुनाव हैं
शहरों में बारूद का मौसम होता है
गाँव चलन अमरूद का मौसम है
काम सभी जराचिकित्सा है, जो हर कोई करता है
और हम कुछ भी नहीं करते हैं, अद्भुत
आपकी नजर में सूर्य उतना ही अद्भुत है जितना कि वह
जितना हम करते हैं, उतना ही हम लैंप का इलाज करते हैं
अगर यह समर्थन नहीं होगा तो यह परेशान करने वाला होगा
जानिए मुश्किलें अगर आसान हो जाए तो
ये कुछ लोग हैं जो स्वर्गदूतों से बने हैं
अगर मेरे हाथ कभी चढ़ते हैं
हर दिन तार दिखाने में बाधा डालते हैं
चंद्रमा पागल है
उसकी सांसें छूट गई हैं, जरा धीरे चलो
बस्टर भी पूजा को बाधित करते हैं
हवा में उड़ाते रहें
गुलाल के रंग पर तेजाब डालना
मैं नूर बंदी के दिनों में फैल जाऊंगा
आप कीड़े बाहर रखते हैं
खुला जुबा, आंख मिल गई, जवाब दो
मैंने कितनी बार खर्च किया है, मुझे हिसाब दो
आपके शरीर के लेखन में उतार-चढ़ाव है
मैं तुम्हें कैसे पढूंगा, मुझे किताब दो
यात्रा की एक सीमा होती है।
आकाश जितना दूर तक जाऊं
इसने क्या कदम उठाए और मंजिल आ गई
मजाल है कि पैरों में थोड़ी थकान हो
तूफान से आँख मिलाओ
नाव छोड़ो, तैरो और नदी पार करो
फूलों की दुकानें खोलें, सुगंध का व्यापार करें
यदि आप प्यार करते हैं, तो इस खाते को एक बार नहीं, सौ बार करें
जंतर मंतर उनकी भूरी आंखों में है
एफ

Rahat indori Shayari – रहत इंदौरी शायरी

Leave a Reply

error: Content is protected !!
%d bloggers like this: